facebook

Mugafi

mugafi community

Hey,

Welcome to mugafi
community!

If you want to share new content, build your brand and make lifelong friends, this is the place for you.

Learn & Grow Rapidly

Build Deep Connections

Explore & launch Content

खौल जाती हैं यह विधाएं , यह रूप तुम्हारा देखकर जल उठती हैं यह समाएं, ए साँस तुम्हारी सेंककर रहकर , रह रह कर रो पड़ती हैं यह रिवाज़ें , जुल्फ तुम्हारी फेर कर जाना है कहती हैं , जल्दी यह उनको नैन तुम्हारे फेट कर , आहट से कहती हैं तमस, तेज तुम्हारे भेष पर सहते नहीं पर कहते पर, लड़ते हैं दीवाने, तेज पर #letsgopost

Show thread

Sushant kumar
Husna  Banu
20 Likes
1  Comments

Trending Posts